Tag Archive: Koi Bhi Vyakti Hamara Mitra Ya Shatru

Vyavhar Aur Shabd Sahi Ho

कोई भी व्यक्ति हमारा मित्र या शत्रु
बनकर संसार में नहीं आता..
हमारा व्यवहार और शब्द ही,
लोगो को मित्र और शत्रु बनाते है…