Tag: Jaha Kadar Na Ho

Kadar Na Ho Vaha Mat Jana

जहाँ कदर ना हो,
वहाँ जाना फिजूल है..
चाहे किसी का घर हो,
चाहे किसी का दिल…!