Tag: मुमकीन नही शायद किसी को समझ पाना

Mushkil Hai Kisi Ki Dosti Pana

मुमकीन नही शायद किसी को समझ पाना,
समझे बिना किसी से क्या दिल लगाना,
आसान है किसी को दोस्त बनाना,
बहुत मुश्कील है किसी की दोस्ती पाना…