Tag: बहुत सोचकर अपनों से रूठा करो

Sochkar Apnon Se Rutha Karo

बहुत सोचकर अपनों से रूठा करो,
आज कल मनाने का रिवाज खत्म हो गया है…