Tag: जमाने का ये दस्तुर कैसा

Pyaar Ko Pana Ye Kasur Kaisa

जमाने का ये दस्तुर कैसा,
प्यार को पाना ये कसुर कैसा,
अगर मोहब्बत गुनाह है जमाने मे,
तो फिर इंसानो को मोहब्बत सिखानेवाला वो खुदा बेकसुर कैसा…