Tag: ख्वाहिश ये मेरी नहीं की

Khwahish Nahi Ki Koi Tareef Kare

ख्वाहिश ये मेरी नहीं की,
“तारीफ” हर कोई करे..
कोशिश लेकिन है यही की,
कोई बुरा भी ना कहे…

Share Dost App