Tag: कोई खुशियों की चाह मे रोया

Koi Khushiyon Ki Chah Me Roya

कोई खुशियों की चाह मे रोया,
कोई दुःखों की पनाह मे रोया,
अजीब सिलसिला है ये ज़िन्दगी का,
कोई भरोसे के लिए रोया,
कोई भरोसा कर के रोया…