Stri Ghar Ko Swarg Banati Hai

हज़ारो फूल चाहिए एक माला
बनाने के लिए,
हज़ारो दीपक चाहिए एक आरती
सजाने के लिए,
हज़ारो बून्द चाहिए समुद्र
बनाने के लिए,
पर एक “स्त्री” अकेली ही काफी है..
घर को स्वर्ग बनाने के लिए…
महिला दिवस कि शुभकामनाये!

Comment Please...