Nafrat Si Ho Gayi Hai Mohabbat Ke Naam Se

जीते थे कभी हम भी शान से,
महक उठी थी फिजा किसीके नाम से,
पर गुजरे है हम कुछ ऎसे मुकाम से,
के नफरत सी हो गई है मोहब्बत के नाम से…

Comment Please...