Khwahish Nahi Ki Koi Tareef Kare

ख्वाहिश ये मेरी नहीं की,
“तारीफ” हर कोई करे..
कोशिश लेकिन है यही की,
कोई बुरा भी ना कहे…

Share Dost App
Comment Please...