Category Archive: SAD SHAYRI HINDI

Manzil Mile Unhein Yeh Chahat Thi Meri

वह नदियाँ नही आँसु थे मेरे,
जिनपर वह कश्ती चलाते रहे,
मंजिल मिले उन्हें यह चाहत थी मेरी,
इसलिए हम आँसु बहाते रहे…

Mushkil Hai Ab In Labo Ka Kabhi Muskura Paana

मुश्किल है अब इन लबों का कभी मुस्कुरा पाना,
मुश्किल है अब इस दिल का किसी के लिए धड़क पाना,
छलकते है सिर्फ आँसू इन आखों से,
अब तो मुश्किल है इनमे किसी के लिए सपने सजाना…

Dard Chupana Shayari

तुमको छुपा रखा है इन पलकों में मैंने,
लेकीन इन को यह बताना अभी तक नहीं आया,
सोते वक़्त भीग जाती है पलके मेरी ए दोस्तों,
लेकीन पलकों को अभी तक दर्द छुपाना नहीं आया!

Page 9 of 9« First...789