Bhool Jane Ka Tujhe Koi Irada Na Tha

भुल जाने का तुझे कोई इरादा ना था,
तेरे सिवा किसी से किया कोई वादा ना था,
निकाल देते दिल से शायद तुम्हारे खयाल,
पर इस कमबख्त दिल में कोई दरवाज़ा ना था…

Comment Please...