Ab Hame Ruth Jane Ki Aadat Nahi Rahi

सपनों से दिल लगाने की आदत नहीं रही,
हर वक्त मुस्कुराने की आदत नहीं रही,
ये सोच के की कोई मनाने नहीं आएगा,
अब हमें रूठ जाने की आदत नहीं रही…

Share Dost App
Comment Please...